मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री राजकोट और वडोदरा के एक दिवसीय दौरे पर

मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री राजकोट और वडोदरा के एक दिवसीय दौरे पर


राजकोट और वडोदरा को कोरोना नियंत्रण के लिए अतिरिक्त ५-५ करोड़ आवंटितः मुख्यमंत्री


  • ·       राजकोट के लिए अतिरिक्त २५०० बिस्तरों की सुविधा की जाएगी
  • ·       वडोदरा एवं राजकोट में कोरोना टेस्टिंग की संख्या को दोगुना किया जाएगा
  • ·       वडोदरा में सयाजीराव हॉस्पिटल-गोत्री में अतिरिक्त बिस्तर, वेंटिलेटर्स, जरूरी उपकरण और दवाइयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराई जाएंगी
मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री राजकोट और वडोदरा के एक दिवसीय दौरे पर




मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने वडोदरा और राजकोट शहर में कोरोना संक्रमण के नियंत्रण की व्यवस्था, दवाइयां और उपकरण सुविधाओं को ज्यादा सघन बनाने को दोनों महानगरों के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में से अतिरिक्त ५-५ करोड़ रुपए आवंटित करने की घोषणा की है।
अब तक इन दोनों महानगरों को मुख्यमंत्री राहत कोष से १०-१० करोड़ रुपए आवंटित किए गए थे, अब अतिरिक्त पांच-पांच करोड़ रुपए आवंटित करने का निर्णय उन्होंने किया है।
मुख्यमंत्री श्री विजय रूपाणी ने बुधवार को राज्य के राजकोट और वडोदरा महानगर में कोरोना संक्रमण एवं नियंत्रण की स्थिति की सर्वग्राही समीक्षा करने के लिए उप मुख्यमंत्री श्री नितिनभाई पटेल और वरिष्ठ उच्चाधिकारियों के साथ इन दोनों महानगरों का एक दिवसीय दौरा किया।
मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री ने राजकोट और वडोदरा में शहरी और जिला प्रशासन, पदाधिकारियों, जनप्रतिनिधियों और इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के अग्रणी डॉक्टरों के साथ सिलसिलेवार बैठक कर समूचे हालात का आंकलन किया।
उन्होंने अधिकारियों, पदाधिकारियों और डॉक्टरों के साथ बैठक संपन्न करने के बाद मीडिया के साथ वार्तालाप में कहा कि राज्य सरकार कोरोना संक्रमण की रोकथाम तथा संक्रमितों के उपचार में राज्य में पहला केस दर्ज हुआ तभी से पूरी ताकत के साथ कार्यरत है।
उन्होंने कहा कि विशेषकर महानगरों और शहरों में माइक्रो प्लानिंग और रणनीति के साथ स्वास्थ्य तंत्र आगे बढ़ा है।
सौराष्ट्र के प्रमुख शहर राजकोट में आसपास के अन्य जिलों के कोरोना संक्रमितों के भी उपचार के लिए आने का जिक्र करते हुए श्री रूपाणी ने कहा कि राजकोट में आगामी दिनों में कोविड हॉस्पिटल में २,५०० बिस्तरों की व्यवस्था की जाएगी।
श्री रूपाणी ने ठेलों-लॉरी में सब्जी बेचने वाले सुपर स्प्रेडर की स्क्रीनिंग व टेस्टिंग शुरू कर कोरोना संक्रमण और नियंत्रण के अभियान को गति देने के साथ ही राजकोट और वडोदरा में होने वाली टेस्टिंग की संख्या को दोगुना करने की भी घोषणा की। उन्होंने कहा कि राजकोट में इस उद्देश्य के लिए जरूरी चिकित्सा व उपचार के उपकरण, एक्स-रे मशीन और टेस्टिंग किट आदि राज्य सरकार देगी।
मुख्यमंत्री ने सुपर स्प्रेडर का पता लगाने के लिए प्रोविजन स्टोर्स और किराना दुकानदारों आदि की क्रमशः टेस्टिंग-स्क्रीनिंग के लिए भी प्रशासन को निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि राज्य में कोरोना टेस्ट की संख्या को रोजाना २० हजार किया जाएगा।  
उन्होंने राजकोट शहर में धन्वंतरि रथ के जरिए घनी आबादी वाले क्षेत्रों में जाकर लोगों की स्वास्थ्य जांच करने और रथ के माध्यम से नियत समय और नियत स्थल पर लगातार पंद्रह दिनों तक लोगों की जांच करने संबंधी कार्य योजना बनाने का सुझाव दिया।

मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री राजकोट और वडोदरा के एक दिवसीय दौरे पर

शहर और जिले के कंटेन्मेंट जोन में रहने वाले लोगों की टेस्टिंग पर जोर देते हुए उन्होंने कंटेन्मेंट जोन में रहने वाले लोगों के लिए संजीवनी रथ के जरिए स्वास्थ्य जांच व उपचार सुविधा मुहैया कराने तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए नियमित रूप से काढ़ा वितरण करने को भी कहा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वडोदरा में गोत्री और सयाजीराव हॉस्पिटल में मौजूदा २५० वेंटिलेटर्स के अलावा जरूरत पड़ने पर और अधिक वेंटिलेटर उपलब्ध कराए जाएंगे तथा बिस्तरों की संख्या बढ़ाने की व्यवस्था भी की जाएगी।
उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण और नियंत्रण के लिए सरकार के उपायों के साथ जनजागृति और सतर्कता भी अनिवार्य है।
उन्होंने आने वाले अगस्त महीने के दौरान गणेशोत्सव, जन्माष्टमी, बकरी ईद, संवत्सरी और भाद्रपद पूर्णिमा जैसे त्यौहारों के मौके पर कार्यक्रम आयोजित न करने की स्वैच्छिक घोषणा करने के लिए भी नागरिक समाजों से अपील की।
श्री रूपाणी ने वडोदरा जिले के विशेषकर डभोई, सावली और पादरा में सप्ताह में एक बार सभी लोगों की सर्विलांस स्क्रीनिंग कर संक्रमितों का पता लगाने तथा घर-घर जाकर होम्योपैथी दवाइयां, काढ़ा और आयुर्वेदिक औषधियों का वितरण कर रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के भी निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री ने साफ कहा कि राज्य सरकार ने कोरोना पर पिछले पांच महीने के दौरान पूर्णतः फोकस कर संक्रमितों का पता लगाने और उन्हें श्रेष्ठ उपचार सुविधा निःशुल्क मुहैया कराने और दवाइयों एवं उपकरणों की कोई कमी न रहे ऐसा सुदृढ़ आयोजन किया है। 
मुख्यमंत्री ने गुजरात में कोरोना उपचार सुविधाओं के लिए राज्य सरकार के सतर्कतापूर्ण आयोजन की जानकारी देते हुए कहा कि राज्य सरकार ने ३३ करोड़ रुपए से अधिक की रकम टोसिलिजुमैब और रेमिडीसिविर जैसे जीवन रक्षक इंजेक्शन खरीदने को आवंटित की है। अब, जो इटालीजूमा नामक जो नया इंजेक्शन आया है, उसकी भी व्यवस्था राज्य सरकार करेगी।
श्री रूपाणी ने कोरोना के संदर्भ में अन्य राज्यों से तुलना करते हुए कहा कि गुजरात में रिकवरी रेट ७४ फीसदी जबकि मृत्यु दर ४ फीसदी है और कोरोना संक्रमण के मामले में गुजरात देश में १२वें स्थान पर है।
उन्होंने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सदस्य डॉक्टरों से भी कोरोना संक्रमितों के उपचार में जुड़ने का आग्रह किया।
मुख्यमंत्री ने नागरिकों से सामाजिक दूरी के नियमों की अनुपालना करने, मास्क के अनिवार्य उपयोग तथा लगातार हाथ धोने व सैनेटाइज करने जैसी अच्छी आदतों को अपनाने तथा इस संबंध में मीडिया से भी जागरूकता फैलाने का अनुरोध किया।
मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री के साथ इन समीक्षा बैठकों में मुख्य सचिव श्री अनिल मुकीम, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री के. कैलाशनाथन और स्वास्थ्य विभाग की प्रधान सचिव डॉ. जयंती रवि भी उपस्थित थीं। 


मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री राजकोट और वडोदरा के एक दिवसीय दौरे पर

Post a Comment

Previous Post Next Post